प्लास्टिक के अति उपयोग को निम्नतम करने के लिए हम क्या कर सकते हैं?

प्लास्टिक के अति उपयोग को निम्नतम करने के लिए हम क्या कर सकते हैं?

इसे सुनेंरोकेंप्लास्टिक के अति उपयोग को कम करने के उपाय-(1) हम प्लास्टिक की थैलियों का कम-से-कम उपयोग करें। जहाँ भी संभव हो बिना किन्हीं दुष्प्रभावों के हम इन थैलियों का पुनः उपयोग करें। (2) दुकानदारों से कागज़ के थैले उपयोग करने का आग्रह करें। खरीददारी के लिए बाज़ार जाते समय हम घर से कपड़े अथवा जूट का थैला लेकर जाएं।

प्लास्टिक के बढ़ते खतरे को कैसे कम कर सकते हैं?

निवेदिता भारती

  1. प्लास्टिक के बैग्स को संभाल कर रखें।
  2. ऐसे प्लास्टिक के इस्तेमाल से बचें जिसे एक बार इस्तेमाल के बाद ही फेंकना होता है जैसे प्लास्टिक के पतले ग्लास, तरल पदार्थ पीने की स्ट्रॉ और इसी तरह का अन्य सामान।
  3. मिट्टी के पारंपरिक तरीके से बने बर्तनों के इस्तेमाल को बढ़ावा दें।
पढ़ना:   जनानखाना क्या है?

प्लास्टिक जलाने पर कौन सी गैस निकलती है?

इसे सुनेंरोकेंपॉलीथिन व प्लास्टिक ने शहर के पर्यावरण को भी बीमार कर दिया है। इसको जलाने से डायोक्सिन गैस निकलती है जो ताजी हवा को दूषित कर रही है।

प्लास्टिक के क्या क्या उपयोग हैं?

इसे सुनेंरोकेंजैसे पानी पीने की बोतल, प्लास्टिक के चम्मच, टूथब्रश, थाली, कप, गिलास, बैग आदि। एक समय इनमें से अनेक वस्तुएं प्लास्टिक की नहीं होती थीं। दरअसल सहूलियत के कारण प्लास्टिक का अधिक उपयोग बढ़ा है। आज तमाम वस्तुओं की पैकिंग के लिए भी प्लास्टिक का उपयोग किया जाता है।

प्लास्टिक के उपयोग से क्या हानियां हैं?

इसे सुनेंरोकेंपॉलीथीन से हानियाँ इसके चलते नालियाँ और नाले जाम हो जाते हैं। इसका प्रयोग तेजी से बढ़ा है। प्लास्टिक के गिलासों में चाय या फिर गर्म दूध का सेवन करने से उसका केमिकल लोगों के पेट में चला जाता है। इससे डायरिया के साथ ही अन्य गम्भीर बीमारियाँ होती हैं।

पढ़ना:   जनसंपर्क के लिए क्या आवश्यक है?

प्लास्टिक पर्यावरण को कैसे नुकसान पहुंचाता है?

इसे सुनेंरोकेंप्लास्टिक के निर्माण में उपयोग किए जाने वाले रसायन शरीर के लिए विषाक्त और हानिकारक है। प्लास्टिक के इस्तेमाल से सीसा, कैडमियम और पारा जैसे रसायन सीधे मानव शरीर के संपर्क में आते हैं। ये जहरीले पदार्थ कैंसर, जन्मजात विकलांगता, इम्यून सिस्टम और बचपन में बच्चों के विकास को प्रभावित कर सकते है।

डायोक्सीन क्या है?

इसे सुनेंरोकेंवैज्ञानिक इस तरह के जीवाणु की खोज में लगे हैं जो पॉलीथिन को नष्ट कर सके। पॉलीथिन के जलने से पर्यावरण प्रदूषित होता है क्योंकि इससे क्लोनी नेटेड, डायोक्सीन हाईड्रोक्लोरिक एसिड, सल्फर डाईआक्साइड आदि विषैली गैस निकलती है। इसलिए पॉलीथिन को जलाना भी पर्यावरण के लिए खतरनाक होता है।

प्लास्टिक के उपयोग से क्या क्या हानियां है?