इंद्र भगवान की पत्नी कौन थी?

इंद्र भगवान की पत्नी कौन थी?

इसे सुनेंरोकेंराजा इंद्र की पत्नी का क्या नाम है? इन्द्र का विवाह असुरराज पुलोमा की पुत्री शचि के साथ हुआ था। इन्द्र की पत्नी बनने के बाद उन्हें इन्द्राणी कहा जाने लगा.

इंद्र को क्या श्राप दिया था?

इसे सुनेंरोकेंइन्द्र को मिले एक भंयकर श्राप से जुड़ी हुई पद्ममपुराण में वर्णित एक कथा के अनुसार देवराज इन्द्र स्वर्गलोक में अप्सराओं से घिरे रहने के बाद भी कामवासना से घिरे रहते थे। एक दिन वो धरती पर विचरण कर रहे थे। तभी उन्होंने देखा कि एक कुटिया के बाहर गौतम ऋषि की पत्नी देवी अहिल्या दैनिक कार्यों में व्यस्त हैं।

इंद्र कितने होते हैं?

इसे सुनेंरोकेंउसी तरह वर्षा या बादलों के देवता इंद्र हैं तो जल (समुद्र, नदी आदि) के देवता वरुण हैं। अब तक हुए 14 इंद्र : स्वर्ग पर राज करने वाले 14 इंद्र माने गए हैं। इंद्र एक काल का नाम भी है, जैसे 14 मन्वंतर में 14 इंद्र होते हैं। 14 इंद्र के नाम पर ही मन्वंतरों के अंतर्गत होने वाले इंद्र के नाम भी रखे गए हैं।

पढ़ना:   राष्ट्र संघ की विश्व शांति की रक्षा में क्या भूमिका थी?

इंद्र के विमान का नाम क्या था?

इसे सुनेंरोकेंपुष्पकविमान हिन्दू पौराणिक महाकाव्य रामायण में वर्णित वायु-वाहन था। इसमें लंका का राजा रावण आवागमन किया करता था। इसी विमान का उल्लेख सीता हरण प्रकरण में भी मिलता है।

दुर्वासा ऋषि ने इंद्र को श्राप क्यों दिया?

इसे सुनेंरोकेंएक बार दुर्वासा ऋषि के श्राप के कारण तीनों लोक श्री-हीन हो गए थे। आदर व प्रेम से दी हुई अपनी भेंट की यह दुर्दशा देखकर ऋषि दुर्वासा अत्यंत क्रोधित हुए और उन्होंने इन्द्र को श्राप दे दिया कि जिस धन समृद्धि के बल पर तुमने मेरी इस भेंट का अनादर किया है आज से तुम उस लक्ष्मी से विहीन हो जाओगे।

गौतम ऋषि ने अंजना को क्या श्राप दिया था?

इसे सुनेंरोकेंइस तरह माता अहल्या की शादी अत्रि ऋषि के पुत्र ऋषि गौतम से हुआ। इंद्र के गलती की वजह ऋषि गौतम ने माता अहिल्या शाप देकर पत्थर बना दिया।

कल्पातीत देवो के कितने भेद है?

इसे सुनेंरोकेंउत्तर — नवग्रैवेयक, नव अनुदिश और पांच अनुत्तर विमान कल्पातीत कहलाते हैं ।

पढ़ना:   कौन सा व्यवसाय करना चाहिए?

असुर कुमार देवों के भवनों की संख्या कितनी है?

इसे सुनेंरोकें४–भवनवासी देवों;असुरकुमार,नागकुमार,विद्यत्कुमार,सुपर्णकुमार,अग्निकुमार,वातकुमार,स्तनितकुमार, उदधिकुमार,द्वीपकुमार और दिक्कुमार के मुकट पर क्रमश:चूड़ामणि,सर्प,गरुड़,हाथी,मगर,घड़ा,वज्र,सिह, कलश,अश्व के चिन्ह होते है ! ५-असुरकुमार देव की २५ धनुष और शेष भवनवासी और व्यंतर देवों की उचाई१० धनुष होती है !

इंद्रदेव के माता पिता कौन है?

इसे सुनेंरोकेंइन्द्र के माता-पिता : इन्द्र की माता का नाम अदिति था और पिता का नाम कश्यप। इसी तरह इन्द्र के सौतेले भाइयों की माता का नाम दिति और पिता कश्यप थे। ऋषि कश्यप की कई पत्नियां थीं जिसमें से 13 प्रमुख थीं। उन्हीं में से प्रथम अदिति के पुत्र आदित्य कहलाए और द्वितीय दिति के पुत्र दैत्य।