झेलम चिनाब रवि व्यास तथा सतलुज में सबसे छोटी नदी कौन सी है?

झेलम चिनाब रवि व्यास तथा सतलुज में सबसे छोटी नदी कौन सी है?

भारत की प्रमुख नदियों की सूची

क्रम नदी उद्गम स्थान
2. झेलम नदी शेषनाग झील, जम्मू-कश्मीर
3. चिनाब नदी बारालाचा दर्रे के निकट
4. रावी नदी रोहतांग दर्रा, कांगड़ा
5. सतलुज नदी मानसरोवर के निकट राकसताल

ऋग्वेद में कौन कौन सी नदी सम्मिलित है?

इसे सुनेंरोकेंऋग्वेद में 25 नदियों का उल्लेख है, जिसमें सबसे महत्त्वपूर्ण नदी सिन्धु नदी है, जिसका वर्णन कई बार आया है। यह सप्त सैन्धव क्षेत्र की पश्चिमी सीमा थी। क्रुमु (कुरुम),गोमती (गोमल), कुभा (काबुल) और सुवास्तु (स्वात) नामक नदियां पश्चिम किनारे में सिन्धु की सहायक नदी थीं।

लद्दाख में कौन कौन सी नदियां हैं?

इसे सुनेंरोकेंश्योक नदी (उईग़ुर भाषा में अर्थ – मृतकों की नदी) भारत के लद्दाख़ क्षेत्र में बहने वाली नदी है। इसका आरम्भ रिमो हिमानी में होता है जो सियाचिन हिमानी की एक जिह्वा है। काफ़ी दूरी तक यह लद्दाख पर्वत श्रेणी के उत्तर में सिन्धु नदी के समानांतर बहती है (सिन्धु नदी इस पर्वत श्रेणी के दक्षिण में बहती है)।

पढ़ना:   हदमि पोर्ट क्या होता है?

कर्नाटक में कितनी नदियां हैं?

इसे सुनेंरोकेंआज मै आप सभी को बताना चाहूंगा की कर्नाटक की मुख्य नदियां कृष्णा, भीमा, मालप्रभा, घाटप्रभा, तुंगभद्रा, वेदवती, कावेरी, हेमवती, शिमशा, अर्कावती, लक्ष्मण तीर्थ, काबिनी, मंजरा, शरावती और मांडवी है।

अपने भारत में कुल कितनी नदियां हैं?

इसे सुनेंरोकेंभारत में लगभग 400 से अधिक प्रमुख नदियाँ हैं। उनमें से, गंगा नदी जल प्रवाह के अनुसार देश की सबसे बड़ी नदी है, जबकि सिंधु नदी लंबाई के हिसाब से सबसे बड़ी नदी है। राजस्थान में केवल 90 किमी बहने वाली अरवरी नदी को भारत की सबसे छोटी नदी माना जाता है।

पाकिस्तान में कौन सी नदी का पानी जाता है?

इसे सुनेंरोकेंइंडस वाटर्स ट्रीटी के मुताबिक, सभी पूर्वी नदियों (सतलज, ब्यास और रावी) के पूरे पानी पर भारत का हक है और सभी पश्चिमी नदियों (सिंधु, झेलम और चिनाब) के सारे पानी पर पाकिस्तान का अधिकार है.

ऋग्वेद में सबसे अधिक उल्लेखित नदी कौन सी है?

इसे सुनेंरोकेंदिए गए विकल्पों में से सरस्वती सबसे अधिक उल्लेखित नदी है। ऋग्वेद में सर्वाधिक चर्चित नदी सरस्वती है।

पढ़ना:   पीलिया में क्या खाना चाहिए?

ऋग्वेद में सबसे पवित्र नदी कौन सी है?

प्रशस्ति और स्तुति:

  • वैदिक काल में सरस्वती की बड़ी महिमा थी और इसे ‘परम पवित्र’ नदी माना जाता था, क्यों कि इसके तट के पास रह कर तथा इसी नदी के पानी का सेवन करते हुए ऋषियों ने वेद रचे औ‍र वैदिक ज्ञान का विस्तार किया।
  • ऋग्वेद के मंत्र ७.९.५२ तथा अन्य जैसे ८.२१.१८ में सरस्वती नदी को “दूध और घी” से परिपूर्ण बताया गया है।

शोक की नदी कौन सी है?

इसे सुनेंरोकेंकर्मनाशा नदी को भारत का शोक कहा जाता है, यह नदी वाराणसी, उत्तर प्रदेश और आरा, बिहार जिले मे बहने वाली नदी जिसे अपवित्र माना जाता था। कर्मनाशा नदी का उद्गम कैमूर जिला से होता है और यह बक्सर के समीप गंगा नदी में विलीन हो जाती है।