शीशम के पत्ते कैसे खाना है?

शीशम के पत्ते कैसे खाना है?

चोट या घाव होने पर शीशम के बीज खाने से आराम मिलता है वहीं इसका तेल घाव पर लगाने से ज़ख्म जल्दी सूखना शुरू हो जाता है।…

  • शीशम के बीज कई औषधि गुणों वाले होते हैं।
  • शीशम के बीज खाना सेहत को बहुत फायदा पहुँचाता है।
  • जानलेवा बीमारियों के खतरे को कम करने के लिए शीशम के पत्ते लाभकारी माने जाते हैं।

खाली पेट शीशम के पत्ते खाने से क्या होता है?

इसे सुनेंरोकेंशीशम का पेड़ आपको हर जगह मिल जाता है। जहां इसकी लकड़ी मजबूत मानी जाती है वहीं इसके पत्तों (Sheesham Leaves) का सेवन करके आपक कई बीमारियों से निजात पा सकते हैं। इसमें औषधीय गुण पाए जाते हैं जो कई बड़े से बड़े इलाज में फायदेमंद साबित हो सकता है।

पढ़ना:   पैन कार्ड कैसे देखें?

शीशम के पत्ते खाने से क्या लाभ मिलता है?

शीशम के पत्ते के फायदे – Sheesham ke Patte ke Fayde in Hindi

  • डिप्रेशन से दूर रखने में सहायक- शीशम के तेल का सेवन करने से अवसाद ग्रस्त रोगियों को कुछ ही देर में आराम मिल जाता है.
  • दर्द में राहत के लिए-
  • हृदय रोग में फायदेमंद-
  • मतली के उपचार में-
  • चोट के घाव के उपचार में-
  • आंखों की लालिमा का उपचार-

शीशम के पेड़ की आयु कितनी होती है?

इसे सुनेंरोकेंशीशम के 10-12 वर्ष के पेड़ के तने की गोलाई 70-75 व 25-30 वर्ष के पेड़ के तने की गोलाई 135 सेमी तक हो जाती है। इसके एक घनफीट लकड़ी का वजन 22.5 से 24.5 किलोग्राम तक होता है। आसाम से प्राप्त लकड़ी कुछ हल्की 19-20 किलोग्राम प्रति घनफुट वजन की होती है।

शीशम के पत्ते कितने खाने चाहिए?

इसे सुनेंरोकेंसुजाक रोग के इलाज के लिए 10-15 मिली शीशम के पत्ते के रस को दिन में 3 बार पिएं। इससे सुजाक की बीमारी में लाभ होता है।

पढ़ना:   फिलिप्स वक्र क्या दर्शाती है?

बेर के पत्ते खाने से क्या क्या फायदे होते हैं?

गले के खराश में फायदेमंद यदि आपको गले में खराश की समस्या रहती है तो बेर के पत्ते फायदेमंद हो सकते हैं.

  • यूरिन की समस्‍या का इलाज
  • वेट करे कंट्रोल
  • चोट में फायदेमंद
  • आंख की फुंसी में फायदेमंद
  • पीपल ऑक्सीजन कब देता है?

    इसे सुनेंरोकेंजहां यह पेड़ रहता है, इसी वजह से वहां आसपास ऑक्सीजन की कमी नहीं होती। पीपल दिन ही नहीं, बल्कि रात में भी ऑक्सीजन देता है। नीम, बरगद, तुलसी के पेड़ भी पीपल की तरह अधिक मात्रा में ऑक्सीजन देते हैं।